मानसून की राह में रोड़ा बन गया चीन सागर पर बना टायफून चक्रवात

 कानपुर 
 दक्षिणी चीन सागर पर बना टायफून इंफा चक्रवाती तूफान दक्षिण पश्चिम मानसून को प्रभावित कर सकता है। अभी तक यह नहीं हो पाया है कि वह देश के उत्तरी राज्यों में मानसून पर कितना असर डालेगा लेकिन इसे मौसम के प्रतिकूल बताया गया है। शहर में पिछले 96 घंटों से चल रही मानसूनी गतिविधि में अब तक केवल 101 मिमी बारिश ही हो सकी है। मौसम विभाग की मानें तो फिलहाल अगले 48 घंटों में बारिश की संभावना बनी रहेगी। मानसून की सक्रियता के बावजूद कम दबाव क्षेत्र के अभाव में छाए बादल बरस नहीं पा रहे हैं। अंतिम बार 18 जुलाई को मानसून सक्रिय हुआ लेकिन 21 जुलाई तक खास बरसात नहीं हो सकी। 17 18 जुलाई को 74 मिली बारिश रिकॉर्ड की गई थी।

 दक्षिण पश्चिमी मानसून गति पकड़ता कि इससे पहले ही चीनी टायफून इसके लिए बाधा बन गया है। सीएसए का पूर्वानुमान है कि एक टाइफुन जिसको चक्रवर्ती हवाओं का तूफान कह सकते हैं, वह दक्षिणी चाइना सागर में दिखाई दे रहा। इसका असर भारत पर पड़ने की पूरी संभावना है। बुधवार को दक्षिण पश्चिमी हवाओं का जोर रहा। इसके बावजूद कम दबाव न बन पाने से तेज बारिश नहीं हो सकी। सीएसए के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन पांडेय का कहना है कि चीनी टायफून का ज्यादा असर न पड़ा तो अगले 24 घंटों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *